Aayega Maza Ab Barsaat Ka – Alka Yagnik, Babul Supriyo

Presenting The Evergreen Song “Aayega Maza Ab Barsaat Ka” (Full Lyrics) From Andaaz (2003) Movie Sung By Alka Yagnik, Babul Supriyo, Lyrics By Sameer, Music Director: Nadeem Shravan. 

Aayega Maza Ab Barsaat Ka Song
Aayega Maza Ab Barsaat Ka Song

Movie: Andaaz (2003)

Song: Aayega Maza Ab Barsaat Ka

Starcast: Akshay Kumar, Lara Dutta, and Priyanka Chopra

Singer: Alka Yagnik, Babul Supriyo

Music Director: Nadeem Shravan

Lyricist: Sameer

Music Label: Shemaroo Filmi Gaane

 

Lyrics In English Text

Aayega Maza Ab Barsaat Ka
Teri Meri Dilkash Mulakaat Ka )…(2)
Maine To Sambhale Rakha Tha…(2)
Tune Dekha To Kata Choot Gaya
Yun Ankhiyaan Milake Ankhiyon Se…(2)
Pardesi Mujhe Tu Loot Gaya

Ek Bheegi Haseena Kya Kehna
Yauwan Ka Nageena Kya Kehna
Saawan Ka Manhina Kya Kehna
Baarish Mein Paseena Kya Kehna
Mere Hoto Pe Ye Angoor Ka Jo Paani Hai
Mere Mehboob Tere Pyaas Ki Kahani Hai
Jab Gataon Se Boond Zor Se Barasti Hai
Tujhse Milne Ko Teri Jaaneman Tarasti Hai
Andaaz Jo Dekha Zaalim Ka…(2)
Sabr Ka Bandh Mere Toot Gaya
Yun Ankhiyaan Milake Ankhiyon Se…(2)
Pardesi Mujhe Tu Loot Gaya

Nazron Mein Chupale Der Na Kar
Yeh Doori Mitale Der Na Kar
Ab Dil Mein Basale Der Na Kar
Seene Se Lagale Der Na Kar
Badi Bechain Hoon Meri Jaan Main Kal Parso Se
Haan Mujhe Intezaar Is Din Ka Barson Se
Ab Jo Rokega To Mein Had Se Guzar Jaaoongi
Hai Tadpayega Dildar To Mar Jaaoong
i Rehjaayenge Pyaase Hum Dono…(2)
Yeh Mausam Jo Hum Se Ruth Gaya
Maine To Sambhale Rakha Tha…(2)
Tune Dekha To Pataa Choot Gaya
Yun Ankhiyaan Milake Ankhiyon Se…(2)
Pardesi Mujhe Tu Loot Gaya
Yun Ankhiyaan Milake Ankhiyon Se
Pardesi Mujhe Tu Loot Gaya

 

Lyrics In Hindi Text

आएगा मज़ा अब बरसात का
तेरी मेरी दिलक़श मुलाक़ात का
आएगा मज़ा अब बरसात का
तेरी मेरी दिलक़श मुलाक़ात का
मैंने तो संभाले रखा था
मैंने तो संभाले रखा था
तूने देखा तो कटा छूट गया
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
परदेसी मुझे तू लूट गया

एक भीगी हसीना क्या कहना
यौवन का नगीना क्या कहना
सावन का महीना क्या कहना
बारिश में पसीना क्या कहना
मेरे होठों पे अंगूर का जो पानी है
मेरे महबूब तेरी प्यास की कहानी है
जब गताओं से बूँद ज़ोर से बरसती है
तुझसे मिलने को तेरी जानेमन तरसती है
अंदाज़ जो देखा ज़ालिम का
अंदाज़ जो देखा ज़ालिम का
सब्र का बांध मेरे टूट गया
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
परदेसी मुझे तू लूट गया

नज़रों में छुपाले देर न कर
यह दूरी मितले देर न कर
अब दिल में बसले देर न कर
सीने से लागले देर न कर
बड़ी बेचैन हूँ मेरी जान मैं कल परसो से
हाँ मुझे इंतज़ार इस दिन का बरसों से
अब रोकेगा तो में हद से गुज़र जाऊंगी
है तडपायेगा दिलदार तो मर जाऊंगी
रेहजायेंगे प्यासे हम दोनों
रेहजायेंगे प्यासे हम दोनों
यह मौसम जो हम से रूठ गया
मैंने तो संभाले रखा था
मैंने तो संभाले रखा था
तूने देखा तो कटा छूट गया
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
परदेसी मुझे तू लूट गया
यूँ अँखियाँ मिलके अंखियों से
परदेसी मुझे तू लूट गया.

 

Lyrics Written By- Sameer

  Read Also

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Reply